विद्यांजली योजना 2020 – Vidyanjali Yojana

0

Vidyanjali Yojana – विद्यांजली योजना 2020 , क्‍या हैं विद्यांजली योजना, योजना के उद्देश्‍य

Vidyanjali Yojana
विद्यांजली योजना

Vidyanjali Yojana

सरकार समय समय पर अनेंक योजनाओं को चलाती हैं। सभी क्षेंत्रों में अलग – अलग योजनाओं का संचालन किया जाता हैं। ऐसे ही शिक्षा के क्षेंत्र में भी अनेक योजनाए चला रखी हैं। जिससे शिक्षा के स्‍तर को बढाया जा सके। शिक्षा के क्षेंत्र में चलाई गई ऐसी ही एक योजना हें ” विद्यांजली योजना”। इस योजना को मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा चलाया गया हैं। इस योजना के तहत कोई भी इच्‍छुक व्‍यक्ति निर्धारित मानदंडों को पूरा करने पर सरकारी स्‍कूल में पढा सकता हैं। इसको चलाने के पीछें सरकार का एक ही उद्देश्‍य हैं शिक्षा को बढावा देंना व सरकारी स्‍कूलों में पढाई के स्‍तर को बढाना। इच्‍छुक व्‍यक्ति जिस विषय को अच्‍छी तरह पढा सकता हैं उसे वो चून सकता हैं।

इस पोस्‍ट के माध्‍यम से हम आपको ” विद्यांजली योजना” के बारें में बताएगे।

Vidyanjali Yojana का उद्देश्‍य

Vidyanjali Yojana को शुरू करने के अनेक उद्देश्‍य हैं जिन्‍हें पूरा करने के लिए इसका संचालन किया जा रहा है। आज भी देंश में ऐसे बहुत से लोग मौजूद हैं जो अपने हुनर को दूसरों तक फ्री में पहुँचाना चाहते हैं। अब उनके पास मौका हैं वो अपने हुनर को इस योजना के माध्‍यम से दूसरों तक पहुँचा सकते हैं। जैसा कि ये हम सभी जानतें हैं कि हमारे देंश में प्राथमिक स्‍तर के विद्यालयों में शिक्षा का स्‍तर बहुत ही दयनीय हैं। इस स्थिति को सुधारने के लिए सरकार इस योजना का संचालन किया हैं ताकि स्‍वयं सेवी लोगो को इस योजना के माध्‍यम से जोडकर उन क्षेंत्रों में लगाया जा सके जहॉं शिक्षा का स्‍तर आज भी निम्‍नस्‍तर पर हैं, व जहॉं पर शिक्षा की अधिक जरूरत हैं।

आज भी जो क्षेंत्र शिक्षा के क्षेंत्र में पिछडें हुए हैं वहा ऐसे शिक्षकों को लगाकर शिक्षा के स्‍तर को सुधारना ही इस योजना का मुख्‍य लक्ष्‍य हैं।

Vidyanjali Yojana के लाभ

  • आज भी बहुत से लोग निस्‍वार्थ भाव से अपने हुनर को दूसरों तक पहुचाने के उत्‍सुक हैं।
  • वो इस योजना के माध्‍यम से स्‍कूली बच्‍चों को अपने ज्ञाान को आसानी से दे सकते हैं।
  • इससे देंश में शिक्षा के स्‍तर में सुधार होगा। जोकि देंश के विकास में सहायक हैं।
  • जो लोग अपनी इच्‍छानुसार बच्‍चों को पढाना चाहते हैं वो बच्‍चों को बेहतर शिक्षा देने की कोशिश करेगे।
  • जिससे बच्‍चों को अच्‍छी शिक्षा व ज्ञान प्राप्‍त होगा जाकि उनके भविष्‍य के लिए उपयोगी हैं।
  • ये शिक्षा बिना पैसे के प्रदान की जाएगी जिससे सरकार पर भी आर्थिक बोंझ नही पडेंगा।
  • अलग – अलग क्षेंत्र का मिलने से बच्‍चों को आगे रोजगार में मदद मिलेंगी।

इस प्रकार इस योजना के अनेक लाभ होगे।

ऐसे विद्यालयों को किया जाएगा शामिल

अब तक इस योजना के तहत देंश के 21 जिलों के 2200 सरकारी स्‍कूलों को जोडा जा चुका हैं। इसके तहत प्राथमिक काक्षाओं ( कक्षा 1 से 8वीं) को शामिल किया जाता हैं। इस योजना के तहत निम्‍न शर्तो को पूरा करने वाले विद्यालयों को शामिल किया जाता हैं:-

  • वह विद्यालय जहॉं पक्‍की इमारत व प्रसाधन की पूरी सुविधा हो।
  • जिसमें पूर्ण कालिक प्रधानाध्‍यापक हो।
  • विद्यालय में इन्‍टरनेंट की सुविधा होनी चाहिए।
  • यदि विद्यालय लडकियो का हो या सह शिक्षा प्रणाली वाला तो वहा एक महिला शिक्षक जरूर हो।
  • RTE नॉर्म्‍स के अनुसार PTR होना आवश्‍य‍क हैं।

स्‍वयंसेवियो को इसमें जुडनें के लिए योग्‍यता

विद्यांजली योजना में जो स्‍वयंसेवी जुडना चहते हैं उनके लिए भी कुछ मापदंड निर्धारित किए गए हैं जिन्‍हें हम यहॉं नीचें देखेंगे।

श्रेंणीन्‍यूनतम योग्‍यता
गृहणीउच्‍च शिक्षा (12वी पास)
भारतीय प्रवासी के लोग12वीं पास
सेवाविवृत / पेंशेवर स्‍नातक
NRIOCI कार्ड

इससे ये तो पता चल ही जाता हैं कि इसमें जुडनें के लिए किसी विशेष योग्‍यता की आवश्‍यकता नही हैं। जैंसा कि सरकारी अध्‍यापक बनने के लिए कठोर नियम हैं।

कैंसे जुडें विद्यांजली योजना में

यदि आप Vidyanjali Yojana में अपनी सेवा देने के लिए शामिलद होना चाहता हैं व उपर बताई गई सभी योग्‍यताओं को पूरा करते हैं तो आप इसमें नीचें बताए अनुसार जुड सकते हैं।

  • आपको सबसे पहले स्‍वयं को रजिस्‍टर्ड करना होगा।
  • रजिस्‍टर्ड करने के निए आप MyGov.in पोर्टल पर जाए।
  • MyGov.in पोर्टल पर आप यहॉं से भी जा सकते हैं।

आपको इस पोर्टल पर उन द्यिालयों के नाम मिलेंगे जिनमें स्‍वयंसेवी शिक्षको की आवश्‍यकता हैं। आप अपनी इच्‍छानुसार विद्यालय का चयन कर सकते हैं। इसके बाद आपके द्वारा जमा किए गए आवेदन को जिस क्षेंत्र का आपे चयन किया हैं उस क्षेंत्र का BEO देंखेगा। उसके बाद वो विचार करके आपको वहा पढानें के लिए आमंत्रित कर सकते हैं। आपको पढाने के लिए बुलाने पर कम से कम 12 दिन तक पढाना हैं जिसे आप 12 हफ्तों में पूरा कर सकते हैं।

इसकी अधिक जानकारी के लिए संबंधित विभाग में सम्‍पर्क करे। सभी फैंसले विभाग के ही मान्‍य होगे।

यह भी पढें

प्रधानमंत्री राष्‍ट्रीय पोषण योजना

Samarth Yojana 2020

PM Kisan योजना के तहत आएगे अगस्‍त में 2000 रूपए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here